ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय कामठी के कृषि एवम ग्राम विकास प्रभाग द्वारा 5 जून पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में ऑनलाइन वेबिनार रखा गया

कामठी ता.प्र.दी.५:- जिसमे ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी ने कार्यक्रम मे जुडे सभी लोगो को 2 मिनिट का मौन पालन कर तीनों दादीयों को श्रध्दांजली अर्पित की।
अपने दिव्य उद्बोधन में ब्रह्माकुमारी प्रेमलता दीदी ने कहा पर्यावरण एवम अध्यात्म का बहुत गहरा सम्बन्ध है | ब्रह्माकुमारी संस्था के कृषि एवम ग्राम विकास प्रभाग द्वारा प्रतिवर्ष पर्यावरण की गुणवत्ता बढ़ाने ,पर्यावरण संरक्षण हेतु आवश्यक कदम उठाने , पर्यावरण प्रदूषण के निवारण हेतु जाग्रति के लिए राष्टव्यापी रूप में विश्व पर्यावरण दिवस पर अनेको कार्यक्रमो का आयोजन हर वर्ष किया जाता हे| दीदी जी ने आगे कहा हमारी तीनों वरिष्ट दादियों जिन्होंने इस वर्ष पुराने देह का त्याग किया उनके निमित आज हम तीन पौधे[ नीम ,बरगद, पीपल] का लगाएगे हमारी ब्रह्माकुमारी संस्था की पूर्व मुख्य प्रशासिका आदरणीया दादी जानकी जी ने बरगद के पेड़ के समान पुरे विश्व में परमात्मा का संदेश पहुचाया इसलिए उनकी स्मृतिमें आज हम बरगद का पेड़ लगाया, आदरणीया दादी गुलजार जी पिपल के पेड़ के समान बहुत ही शितल ओर परमात्म मिलन का आक्सीजन सबको देती रही उनकी स्मृति में आज हमने पिपल का पेड़ लगाया ,हमारी इशु दादी जी नियम मर्यादाओं में नीम के समान बहुत कड़ी थी | उनकी स्मृति में हम नीम का पौधा लगाया |ये तीन पेड़ 24 घंटे हमे ऑक्सिजन देते हें | पुरे भारत के ब्रह्माकुमार ब्रह्माकुमारी भाई बहने ये तीनों पौधे अपने खेतो में या बोनसाय के रूप में अपने अपने घर में अवश्य लगायेंगे | विशेष सभी को ओक्सिजन देने वाले आउट डोर या इन डोर पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया गया |
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में रूची एग्रो फॉर्म के डायरेक्टर ब्र.कु. महेन्द्र भाई ठाकुर ने कहा कि सुक्ष्म पर्यावरण को बनाने के लिए कई जीव,जंतु,प्राणी,वनस्पति,मनुष्य आदि आदि का समतोल ही पर्यवरण को सुरक्षित रख पाता है परंतु आज के समय पर यह असंतुलन ही खतरा बन गया है। प्रकृति का साइकल फिर से यथायोग्य बनाने के लिए हमे ज्यादा से ज्यादा पेड-पौधे लगाकर जैव विविधता (जीव,जंतु,प्राणी,वनस्पति,मनुष्य, आदि ) के लिए अनुकुल वातावरण तैयार कर सकते है। पानी, हवा और अग्नि का विशेष ध्यान रखते हुए हम पर्यावरण दिन मनायेंगे ऐसे विचार सुनाए।
कार्यक्रम की प्रमुख अतिथि के रूप में प्रा. सौ अवंतिकाताई लेकुरवाळे ने प्रदूषण को कम करने के उपाय सुझाए जिसमें उन्होनें कहा कि बेशक हम वाहन का प्रयोग करे पर समय समय पर अपने वाहन की जांच करवाए और सुधारित वाहन का ही पेऱोग करे। पेडो की कटाई के पहले उतने ही मात्रा मे फिर से वृक्षारोपण जरूर करे, साथ ही एक पेड़ एक जिंदगी का अवश्य ध्यान रखे। बरसात के पानी को ना गवाते हुए रेन वाटर हार्वेस्टींग को क्रियान्वित करे ऐसे कई उपायो से हम बढ़ते प्रदुषण को कम कर सकते है।
ब्र.कु.शिलू बहन ने पर्यावरण की रक्षा हम सबकी सुरक्षा के लिए नारे लगवाए।
कार्यक्रम के अंत में उन सभी को याद किया गया जिन्होंने इस वर्ष कोरोनाकाल में शरीर छोड़ा है | मौन रहकर उन्हें श्रधांजलि दी गयी | कार्यक्रम का संचालन ब्रह्मा कुमारी वंदना ने किया | कार्यक्रम के बाद सभी सेवास्थान जैसे रनाला, कामठी,खापा, खापरखेडा, नगरधन कापसी, तारसा, कन्हान, भिलगाव,येरखेडा,गादा की बहनो ने और सभी भाई बहनों ने अपने अपने घरों पर वृक्षारोपण कर पर्यावरण दिन मनाया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *