सशक्त नारी सशक्त समाज के नींव – ब्रह्मा कुमारी प्रेमलता दीदी

कामठी (रनाला) ८:-प्रजा पिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की शाखा रनाला में अंतरराष्ट्रीय महिला दिन पर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें प्रमुख मार्गदर्शक के रुप में पूर्व राज्य मंत्री से मंत्री तथा ड्रैगन पैलेस टेंपल के संस्थापिका सुश्री एड. सुलेखा कुंभारे ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा ऑनलाइन वेबीनार को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय कोरोनावायरस के कारण बडी सभाओं में ना जाते हुए इस ऑनलाइन वेबीनार को सराहा तथा संविधान में महिलाओं को दिया गया समानता का अधिकार गौरवपूर्ण बताया। बेटा और बेटी में फर्क करना हमारी भूल है। ऐसा एक भी क्षेत्र नहीं जहॉं महिलाओं ने हिस्सा ना लिया हो महिलाएं सभी क्षेत्र में आत्मविश्वास से अपने को देखें कि हम सिर्फ महिला नहीं लेकिन एक व्यक्ति है एक महाशक्ति है और इसका पर्व करके हम अंतरराष्ट्रीय महिला दिन मनाते है। कामठी सेवा केंद्र संचालिका ब्रह्मा कुमारी प्रेमलता दीदी ने सभी महिलाओं को शुभकामना देते हुए कहा कि नारी ही बहुत महान शक्ति है उसमें अदम्य साहस और शक्ति है। 21वीं सदी में नारी सशक्त नारी की भूमिका निभा रही है फिर भी समाज के कई हिस्सों में महिलाओं पर अत्याचार हो रहे हैं इसका कारण है आंतरिक शक्ति की कमी। अभी समय आया है व्यक्तिगत तथा संगठित रूप से आंतरिक शक्ति को उजागर करने का। जो कि आत्म चिंतन से ही आंतरिक सशक्तिकरण संभव है। मेडीकल के क्षेत्र में कोरोना महामारी के समय सराहनीय कार्य करने के लिए डॉ उज्ज्वला कलंत्री, डॉ मंजू राठी शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय कार्य के लिए अनीता लिंगाया मैडम, प्रिंसिपल अलका सोनवाने, राजकीय तथा सामाजिक क्षेत्र में रनाला गांव की सरपंच सौ.सुवर्णाताई साबरे इनको शॉल ,फोटो और गुलदस्ते के द्वारा प्रदान कर सत्कार किया गया। डॉ संजय राठी ने कहा कि हमने जो कार्य किया उसके पीछे प्रेमलता दीदी की शुभ प्रेरणाए प्राप्त होती रही इसलिए यह कार्य हम सहज रीती से कर सके । उन्होंने अपने तरफ से दीदी जी को शॉल और गुलदस्ते के द्वारा सम्मानित किया। इस ऑनलाइन वेबीनार में कामठी, रनाला, खापा, खापरखेड़ा, कापसी, भीलगांव, कन्हान, तारसा,येरखेड़ा, गादा,नगरधन सभी स्थानों की संबंधित महिलाओं ने कार्यक्रम का लाभ लिया। कु. वैष्णवी, कु.आर्या भिवगड़े इन्होंने महिलाओं को प्रोत्साहित करने वाला डांस प्रस्तुत किया। ब्रम्हाकुमारी शिलु बहन ने स्वरचित कविता सुनाई। कार्यक्रम का संचालन और आभार वंदना बहन ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *